Latest Updates

आवाज़ दे तो ज़न्नत से कौसर निकल पड़े


आवाज़ दे तो ज़न्नत से कौसर निकल पड़े
नहरे फुरात ख़ेमे के अंदर निकल पड़े
ये शबर का मुक़ाम है वरना
ये वो हुसैन है उँगली जहा लगादे
समन्दर निकल पड़े
या हुसैन(स.अ)

No comments